इन 6 आदतों से बर्बाद हो सकता है वैवाहिक जीवन, आ सकती है तलाक की नौबत

5646

पहले के समय में विवाह होने के बाद ताउम्र रिश्ता निभाया जाता था. तब तलाक के मामले सामने नहीं आते थे क्योंकि तब पति और पत्नी दोनों के बीच धैर्य, सम्मान, मर्यादा आदि का ध्यान रखा जाता था. दोनों हर परिस्थिति में एक दूसरे का साथ निभाते थे और अच्छाई और बुराई दोनों को स्वीकार करते थे. लेकिन आज के समय में वो सहनशीलता लोगों के पास नहीं बची है. मॉडर्न लाइफ में लोगों के स्वभाव में गुस्सा, चिड़चिड़ापन, खर्चे, तनाव और झूठ बोलने की प्रवृत्ति को बढ़ावा दिया है.

लोगों के बीच त्याग की भावना खत्म सी हो गई है. हर कोई सबसे पहले अपने बारे में सोचता है. इन स्थितियों के बीच वैवाहिक जीवन भी डगमगाने लगा है. यही कारण है कि तलाक के मामले भी तेजी से बढ़ने लगे हैं. आचार्य चाणक्य ने अपने ग्रंथ चाणक्य नीति में ऐसी आदतों के बारे में वर्षों पहले ही बता दिया था, जो वैवाहिक जीवन को बर्बाद करने के लिए जिम्मेदार मानी जाती हैं. यदि इन आदतों को समय रहते संभाल लिया जाए तो अपने वैवाहिक जीवन को अच्छे से ​जिया जा सकता है.

गुस्सा
गुस्सा सिर्फ व्यक्ति का ही नुकसान नहीं करता, बल्कि उसके तमाम रिश्तों को भी समाप्त करने की वजह माना जाता है. पति और पत्नी में से अगर कोई भी गुस्से वाले स्वभाव का है, तो जीवन में कभी शांति नहीं ​हो सकती. ऐसे में टकराव की स्थितियां बनती हैं और वैवाहिक जीवन कमजोर होता है.

गोपनीयता
अगर आप अपने वैवाहिक जीवन को बेहतर बनाना चाहते हैं, तो अच्छा ये है कि आप अपनी गोपनीय बातें खुद तक ही रखें. अगर आप आपस की बातों में किसी तीसरे को डालेंगे तो आपके बीच समस्या सुलझने की बजाय उलझ जाएगी.

झूठ
पति पत्नी का आपसी रिश्ता बहुत नाजुक होता है. इसमें झूठ का सहारा नहीं लेना चाहिए. वक्त के साथ अगर आपका सच सामने आया, तो पार्टनर का भरोसा खत्म होने लगेगा और आपके रिश्ते में कड़वाहट शुरू हो जाएगी.

खर्चे
आमदनी के हिसाब से पति और पत्नी दोनों को खर्चों का संतुलन बनाकर रखना चाहिए. अगर आपके खर्चे बेहिसाब होंगे, तो भी पति पत्नी के बीच टकराव की स्थिति पैदा जरूर होगी.

मर्यादा
हर रिश्ते की एक मर्यादा होती है. पति और पत्नी दोनों को इस बात का खयाल रखना चाहिए. मर्यादा पार करने पर रिश्ता भी टूटने की कगार पर आ जाता है.

धैर्य
जीवन में कई बार ऐसी विपरीत परिस्थितियों का भी सामना करना पड़ता है. ऐसे में पति और पत्नी दोनों को एक दूसरे का सपोर्ट बनना चाहिए और धैर्यपूर्वक स्थितियों का सामना करना चाहिए. जल्दबाजी में हालात और बिगड़ जाते हैं.

क्या भारत 50 साल में एशिया का नेता बन गया है?