Wednesday, July 17, 2024
Homeदेशआचार्य धीरेंद्र शास्त्री के साईं बाबा के खिलाफ बयान पर हुई सियासत...

आचार्य धीरेंद्र शास्त्री के साईं बाबा के खिलाफ बयान पर हुई सियासत गर्म

बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री के साईं बाबा को लेकर दिए बयान पर हंगामा हो गया है। इस मुद्दे पर महाराष्ट्र की सियासत भी गरमा गई है। अब शिवसेना (उद्धव ठाकरे गुट) के नेता राहुल कनल ने पुलिस को एक पत्र लिखा है, जिसमें बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। शिवसेना नेता धीरेंद्र शास्त्री द्वारा साईं बाबा को लेकर की गई टिप्पणी से नाराज हैं। बल्कि उनके बल्कि इस बयान से महाराष्ट्र की सियासत भी सुलग गई है।

साईं बाबा को लेकर महाराष्ट्र में क्यों हुई सियासत गर्म

दरअसल महाराष्ट्र में लाखों लोग हैं जो साईं बाबा को न सिर्फ मानते हैं बल्कि उनकी पूजा भी करते हैं। ऐसे में आचार्य धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री के साईं बाबा को लेकर दिए बयान पर महाराष्ट्र के औरंगाबाद से ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के सांसद इम्तियाज जलील ने आचार्य पर उचित कार्रवाई करने की मांग की है।

उन्होंने शिवसेना पर निशाना साधते हुए कहा धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पर उचित कार्रवाई होनी चाहिए। हमारे देश में साईं बाबा के करोड़ों भक्त हैं। उनको लेकर किसी को भी इस तरह के शब्दों के इस्तेमाल से बचना चाहिए। आए दिन ऐसे कई बाबा हैं जो अपने आपत्तिजनक बयान को लेकर चर्चा में बने रहते है। इन बाबाओं का अंजाम होता है वह सभी को पता है।

वहीं एनसीपी (NCP) नेता जितेंद्र आव्हाड ने भी शिंदे-फडणवीस के जवाब मांगा कि वह बागेश्वर के ऐसे बयान पर क्या कार्रवाई करेंगे। जितेंद्र आव्हाड ने शिवसेना पर निशाना साधते हुए कहा, ‘महाराष्ट्र में सभी को महापुरुषों के अपमान करने का आमंत्रण दिया जा रहा है। जिन्होंने बागेश्वर बाबा को यहां बुलाया था वह अब साईं बाबा के विषय में अपना रुख साफ करें।

धीरेंद्र शास्त्री के बयान से जताई नाराजगी

महाराष्ट्र के उप-मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के करीबी माने जाने वाले और कैबिनेट मंत्री राधाकृष्ण विक्खे पाटिल ने भी धीरेंद्र शास्त्री के बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि ‘उन्हें (धीरेंद्र शास्त्री) बाबा पर सवाल उठाने का क्या अधिकार है? अगर उन्हें किसी खास धर्म या संगठन के लिए कैंपेन करना है तो वह अपनी चार-दीवारी में रहकर यह काम करें पर ऐसे गैर-जिम्मेदाराना बयान सांप्रदायिक हिंसा को जन्म दे सकते हैं।

साईं बाबा को लेकर क्या कहा था धीरेंद्र शास्त्री ने

बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री ने अपने एक बयान में कहा कि ‘हमारे धर्म के शंकराचार्य ने साईं बाबा को देवताओं का स्थान नहीं दिया है। शंकराचार्य की बात मानना हर सनातनी का धर्म है क्योंकि वह हमारे धर्म के प्रधानमंत्री हैं। कोई भी संत…चाहे हमारे धर्म के हों या फिर कोई और हों…वे संत, युगपुरुष और कल्पपुरुष हो सकते हैं लेकिन भगवान नहीं।’ उन्होंने कहा कि ‘साईं बाबा संत हो सकते हैं, फकीर हो सकते हैं मगर भगवान नहीं हो सकते हैं। यह बोलना विवाद का विषय हो जाएगा लेकिन यह बोलना भी जरूरी है कि शेर की खाल पहन लेने से कोई गीदड़ शेर नहीं हो जाता है।

भड़के साईं भक्तों ने आचार्य धीरेंद्र शास्त्री को लेकर क्या कहा ?

आचार्य धीरेंद्र शास्त्री के इस बयान पर शिरडी सहित पूरे राज्य से तीखी प्रतिक्रिया सामने आ रही हैं। शिरडी के ग्रामीणों और साईं भक्तों ने धीरेंद्र शास्त्री से माफी मांगने की मांग की है। शिरडी के ग्रामीणों का कहना है कि हमेशा ही एक खास विचारधारा के लोग साईं बाबा के बारे में विवादित बयान देते आ रहे हैं। साईंबाबा भगवान हैं या नहीं ये जानने और मानने के लिए हमें धीरेंद्र शास्त्री के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है।

कौन हैं आचार्य धीरेंद्र शास्त्री

धीरेंद्र शास्त्री की वेबसाइट के अनुसार उनका बचपन गरीबी में बीता लेकिन परिवार पूजा-पाठ करने वाला था। उनका परिवार पूजा पाठ में मिले दक्षिणा से चलता था। धीरेंद्र तीन भाई-बहनों में सबसे बड़े हैं। उनकी बहन का नाम रीता गर्ग और भाई का नाम शालिग्राम गर्ग हैं। धीरेंद्र शास्त्री की वेबसाइट के अनुसार, ”आचार्य धीरेंद्र ने अपनी पढ़ाई बचपन में छोड़ दी थी। उनकी जिंदगी अपने भाई-बहनों को पालने और उनके खर्चे उठाने में बीता। फिर एक दिन आचार्य धीरेंद्र बालाजी महाराज की सेवा में जुट गए।

कैसे मिली आचार्य धीरेंद्र शास्त्री को सफलता

भारत में इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ने का फायदा आचार्य धीरेंद्र को भी मिला है। उनके वीडियोज सोशल मीडिया पर वायरल होने लगे जिसके कारण लोगों ने उन्हें पहचानना शुरू किया। धीरेंद्र ये विडियो यू-ट्यूब से लेकर वॉट्स ऐप और फिर संस्कार चैनल के ज़रिए बड़ी संख्या में लोगों तक पहुंचने लगे। आज आलम ये है कि शायद ही कोई उन्हें नहीं पहचानता होगा। इन यूट्यूब बाबा के लगभग सभी वीडियोज को लाखों लोगों ने देखा है। वहीं यू-ट्यूब पर 37 लाख से ज़्यादा सब्सक्राइबर्स और तीन साल में व्यू 54 करोड़ से ज़्यादा हैं।

आचार्य धीरेंद्र शास्त्री के भक्तों में आम से खास लोग तक शामिल

बागेश्वर बाबा के दरबार में उन्हें सुनने जाने वाले भक्तों की सूची में सिर्फ आम लोग ही नहीं बल्कि कई नेता भी शामिल हैं। सबसे पहला नाम आता है कांग्रेस विधायक आलोक चतुर्वेदी का जिनकी बागेश्वर बाबा को आगे बढ़ने में उनकी अहम भूमिका बताई जाती है। इसके अलावा कैलाश विजयवर्गीय, महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस, मध्य प्रदेश के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा और नितिन गडकरी, गिरिराज सिंह जैसे केंद्रीय नेता भी बाबा के कथाओं को सुन चुके हैं और इनके भक्तों की लिस्ट में शामिल हो चुके हैं।

read more : थोड़ी देर में सूरत पहुंचेंगे राहुल गांधी और प्रियंका गांधी, कोर्ट में दाखिल करेंगे याचिका

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments