Thursday, July 18, 2024
Homeउत्तर प्रदेशसुप्रीम कोर्ट के 5 जज आज लेंगे शपथ, बढ़ जाएगी जजों की...

सुप्रीम कोर्ट के 5 जज आज लेंगे शपथ, बढ़ जाएगी जजों की संख्या

पिछले कुछ समय से केंद्र सरकार और कॉलेजियम के बीच काफी गहमागहमी बनी हुई है। कुछ विषयों पर कॉलेजियम और सरकार की राय अलग रही आर कई बार टकराव की भी नौबत देखने को मिली। वहीं इसी बीच आज सोमवार को सुप्रीम कोर्ट के 5 नए जज शपथ लेंगे। पांच नए जजों जस्टिस पंकज मित्थल, जस्टिस संजय करोल, जस्टिस पीवी संजय कुमार, जस्टिस अहसानुद्दीन अमानुल्ला और जस्टिस मनोज मिश्र को सोमवार को मुख्य न्यायाधीश जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में शपथ दिलाएंगे।

विभिन्न हाई कोर्ट में भी नियुक्त किये गए जज

वहीं इसके साथ ही राजस्थान उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पंकज मित्तल, पटना उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश संजय करोल, मणिपुर उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश पी.वी संजय कुमार, पटना उच्च न्यायालय के न्यायाधीश अहसानुद्दीन अमानुल्लाह और इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायाधीश मनोज मिश्रा को शीर्ष अदालत के न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किये जाने की घोषणा केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ट्वीट के जरिये की।

सुप्रीम कोर्ट में बढ़ जाएगी में जजों की संख्या

इन पांच जजों के शपथ लेने के बाद सुप्रीम कोर्ट में जजों की संख्या 32 हो जाएगी। इसके साथ ही कोर्ट के ने जजों पर काम का बोझ भी कुछ हद तक कम हो जायेगा। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के छह सदस्यीय कॉलेजियम ने 13 दिसंबर, 202 को इन सभी पांचों जजों के नामों की सिफारिश की थी। कॉलेजियम ने दो और जजों के नाम की सिफारिश की है। उनकी नियुक्त के बाद सुप्रीम कोर्ट में 34 न्यायाधीश हो जाएंगे। संविधान के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट में अधिकतम 34 जज हो सकते हैं।

जस्टिस पंकज मित्थल ने इलाहाबाद हाईकोर्ट से शुरू की थी वकालत

17 जून, 1961 को जन्मे मेरठ के रहने वाले जस्टिस पंकज मित्थल वरिष्ठता में पहले नंबर पर हैं। 1982 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय से वाणिज्य में स्नातक करने के बाद 1985 में मेरठ कॉलेज से एलएलबी की डिग्री हासिल की। उसी साल उत्तर प्रदेश बार काउंसिल में पंजीकरण कराने के बाद उन्होंने इलाहाबाद हाईकोर्ट में वकालत भी शुरू कर दी थी।

हिमाचल प्रदेश मूल हाईकोर्ट, पटना में थे मुख्य न्यायाधीश

वरिष्ठता में दूसरे नंबर पर जस्टिस संजय करोल हैं, जिनका मूल हाईकोर्ट हिमाचल प्रदेश है। सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीश नियुक्त किए जाने के समय वह पटना हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे। 23 अगस्त, 1961 को हिमाचल प्रदेश में जन्मे जस्टिस करोल ने शिमला के सेंट एडवर्ड स्कूल और राजकीय डिग्री कॉलेज, शिमला से शिक्षा हासिल की।

जस्टिस संजय कुमार ने 1988 में आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट में शुरू की वकालत

जस्टिस पीवी संजय कुमार मूलरूप से तेलंगाना हाईकोर्ट से संबंध रखते हैं। 14 अगस्त, 1963 को जन्मे जस्टिस कुमार ने निजाम कॉलेज, हैदराबाद से स्नातक करने के बाद 1988 में दिल्ली विवि से लॉ की डिग्री हासिल की थी। जल्दी ही उन्होंने आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट में प्रैक्टिस शुरू कर दी। 2008 में उन्हें आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट में अतिरिक्त जज नियुक्त किया गया था।

पटना हाईकोर्ट में शुरू की थी वकालत : जस्टिस ए अमानुल्ला

11 मई, 1963 को जन्मे जस्टिस ए अमानुल्ला पटना हाईकोर्ट से संबंध रखते हैं। उन्होंने 1991 में बिहार राज्य बार काउंसिल में पंजीकरण के बाद पटना हाईकोर्ट में वकालत शुरू की थी। 20 जून, 2011 को पटना हाईकोर्ट में न्यायाधीश बनाए जाने तक वह उसी हाईकोर्ट में सरकारी वकील थे। 10 अक्तूबर, 2021 को उनका तबादला आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट में कर दिया गया था।

जस्टिस मनोज मिश्र 2011 में बने इलाहाबाद हाईकोर्ट के अतिरिक्त जज

सुप्रीम कोर्ट में न्यायाधीश नियुक्त किए गए पांच जजों में से वरिष्ठता क्रम में पांचवें स्थान पर जस्टिस मनोज मिश्र हैं। 2 जून, 1965 को पैदा हुए जस्टिस मिश्र ने 1988 में इलाहाबाद हाईकोर्ट से वकालत शुरू की थी। 21 नवंबर, 2011 को उन्हें इलाहाबाद हाईकोर्ट में अतिरिक्त जज बनाया गया था। 6 अगस्त, 2013 को वह स्थायी जज बने थे।

read more : भूकंप से तुर्की और सीरिया तक कांपी धरती , 640 से अधिक मौतों की खबर

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments