Wednesday, July 17, 2024
Homeदेशएमपी में कांग्रेस खेल रही माइंड गेम, भाजपा-संघ के सर्वे पर तैयार...

एमपी में कांग्रेस खेल रही माइंड गेम, भाजपा-संघ के सर्वे पर तैयार हुई चुनावी रणनीति

एमपी में विधानसभा चुनाव के लिए अब कुछ वक्त बचा है। ऐसे में सत्ताधारी भाजपा और कांग्रेस दोनों चुनावी तैयारियों में जुटी हुई नजर आ रही हैं। इसी बीच कांग्रेस ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का जिक्र करते हुए बड़ा दावा किया है। कांग्रेस पार्टी ने कहा कि आरएसएस के सर्वे से भाजपा में हाहाकार मचा हुआ है। प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में वापसी कर रही है। जबकि पार्टी और आरएसएस के विभिन्न सर्वे में पार्टी को 60 से भी कम सीटें मिलती हुई दिखाई दे रही हैं।

हाल ही में कांग्रेस पार्टी ने ट्वीट कर लिखा है कि मध्य प्रदेश में इस साल के आखिर तक विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव से पहले कई सर्वे सामने आए हैं, जिनमें प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनती नजर आ रही है। साथ ही भाजपा 55 सीटों से भी कम पर सिमट रही है। कांग्रेस के पास 2018 के अपने 15 महीनों का कार्यकाल और कमलनाथ जैसे निर्विवाद और अनुभवी नेता का साथ है। इसे लेकर वह जनता के बीच पहुंच रही है।

मध्य प्रदेश भाजपा में मची खलबली

दरअसल, मध्य प्रदेश में भाजपा पर 18 वर्षों की देनदारियां और सरकार की कई ऐसी अधूरी घोषणाएं हैं, जो गंभीर सत्ता विरोधी लहर (एंटी इनकम्बेंसी) का रूप ले चुकी है। पिछले 5 महीनों में मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव 2023 को लेकर छह अलग-अलग सर्वे सामने आए हैं। सभी सर्वे में भाजपा की सीटें लगातार घटती जा रही हैं। इतना ही नहीं, भाजपा के सर्वे में भी पार्टी बुरी तरह से हारती हुई दिख रही है। ये सर्वे आने के बाद से मध्य प्रदेश भाजपा में खलबली मची है और ये सुझाव भी मिला है कि 60 फीसदी भाजपा विधायकों के टिकट काटे जाएं।

पहली बार कांग्रेस में नजर आ रहा है जबरदस्त उत्साह

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस के जीत के दावे के कई कारण है। 2018 के विधानसभा चुनाव में कमलनाथ के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव में भाजपा को पटखनी देने वाली कांग्रेस अब पूरे जोश से मैदान में है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ कहते हैं कि 2018 के चुनाव से पहले मई में प्रदेश अध्यक्ष बना था, नवंबर में चुनाव थे। मध्य प्रदेश में काफी लोग मुझे पहचानते नहीं थे, मेरी कार्यशैली से वाकिफ नहीं थे, परंतु आज ऐसा नहीं है। मध्य प्रदेश का हर वर्ग कमलनाथ को और कमलनाथ की कार्यशैली को जानता और पहचानता है।

भारत जोड़ो यात्रा का प्रदेश में सकारात्मक प्रभाव

मध्य प्रदेश के कांग्रेस नेताओं का कहना है कि राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा का प्रदेश में सकारात्मक प्रभाव देखने को मिल रहा है। हिमाचल प्रदेश और कर्नाटक की जीत के बाद प्रदेश के कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा हुआ है। कार्यकर्ता पहले से ज्यादा उत्साह में हैं। हिमाचल और कर्नाटक चुनाव के बाद पार्टी ये समझ रही है कि राज्यों के चुनावों में राष्ट्रीय मुद्दों की कोई जरूरत नहीं है। इसलिए कांग्रेस विधानसभा चुनाव में मध्य प्रदेश की जनता को प्रभावित करने वाले मुद्दों को उठाते हुए दिख रही है। चाहे वह भ्रष्टाचार का मामला हो या कर्मचारियों की मांगों का सभी को प्रमुखता के साथ उठाया जा रहा है।

read more : केंद्र का अध्यादेश लोकतंत्र के खिलाफ बोल के अखिलेश ने केजरीवाल को दी राहत

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments