Wednesday, July 17, 2024
Homedelhiसांसद बृज भूषण शरण सिंह की बढ़ेंगी मुश्किलें, होगी एफआईआर दर्ज

सांसद बृज भूषण शरण सिंह की बढ़ेंगी मुश्किलें, होगी एफआईआर दर्ज

महिला पहलवानों के धरना प्रदर्शन मामले में सांसद बृज भूषण शरण सिंह की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। दरअसल दिल्ली पुलिस ने कहा है कि वह इस मामले में आज एफआईआर दर्ज करेंगे। दिल्ली पुलिस ने सुप्रीम कोर्ट में यह जानकारी दी है। महिला पहलवान बृज भूषण के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने की मांग कर रही हैं और इसी मांग को लेकर उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने भी सुप्रीम कोर्ट को अवगत कराया कि दिल्ली पुलिस आज एफआईआर दर्ज करेगी।

सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया था दिल्ली पुलिस को नोटिस

बता दें कि बीते कई दिनों से धरने पर बैठीं महिला पहलवानों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। याचिका में मांग की गई थी कि भारतीय कुश्ती संघ के अध्यक्ष बृज भूषण शरण सिंह के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए। पहलवानों ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था, जिस पर कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया था। आज सुनवाई के दौरान दिल्ली पुलिस ने कोर्ट में कहा कि वह आज इस मामले में एफआईआर दर्ज करेंगे।

कोर्ट में सुनवाई के दौरान क्या हुआ ?

वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से अपील की कि वह महिला पहलवानों की सुरक्षा के लिए दिशा-निर्देश जारी करे और इसकी मॉनिटरिंग के लिए सेवानिवृत्त न्यायाधीश को नियुक्त किया जाए। दिल्ली पुलिस की तरफ से कोर्ट में पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि ये सभी मामले पुलिस द्वारा देखे जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को हलफनामा देने का भी निर्देश दिया। पहलवानों की तरफ से पेश हुए वकील कपिल सिब्बल ने सुरक्षा की मांग की। जांच के लिए एसटीएफ (STF) के गठन का भी अनुरोध किया। इस पर सॉलिसीटर जनरल ने कहा कि यह विषय दिल्ली पुलिस कमिश्नर पर छोड़ देना चाहिए। सिब्बल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज की निगरानी में जांच होनी चाहिए। इस पर तुषार मेहता ने कहा कि अब यह मांग कुछ अधिक है। पुलिस कमिश्नर ज़िम्मेदार अधिकारी हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि……..

इसके बाद सीजेआई डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि सॉलिसीटर जनरल हम आपका वक्तव्य रिकॉर्ड कर लेते हैं। एक हफ्ते बाद हमें आगे की जानकारी दी जाए। सॉलिसीटर जनरल ने इस पर कहा कि यह उचित नहीं है। हर मामले में सीधे कोर्ट की या पूर्व जज की निगरानी की मांग की जाती है। शायद खिलाड़ी खुद नहीं जानते कि उनके नाम पर कुछ और भी चल रहा है। इस पर चीफ जस्टिस ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने एफआईआर दर्ज करने की बात कही है। हम अभी जांच के लिए एसटीएफ (STF) बनाने पर कुछ नहीं कह रहे हैं। उन्होंने कहा कि नाबालिग खिलाड़ी पर खतरे की समीक्षा कर पुलिस कमिश्नर उसे सुरक्षा दें, बाकी खिलाड़ियों की सुरक्षा की भी समीक्षा हो और फिर अगले शुक्रवार को मामला दोबारा सुनवाई के लिए लगाया जाएगा।

read more : माफिया ब्रदर्स की हत्या पर सुप्रीम कोर्ट ने पूछा – इधर-उधर परेड क्यों करवाई गई ?

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

Comments are closed.

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments