Wednesday, July 17, 2024
Homeदेशअडानी-हिंडनबर्ग विवाद के बीच अमित शाह का पलटवार, भाजपा के पास छिपाने...

अडानी-हिंडनबर्ग विवाद के बीच अमित शाह का पलटवार, भाजपा के पास छिपाने को कुछ नहीं

उद्योगपति गौतम अडानी को बीजेपी से ‘फेवर’ मिलने के कांग्रेस के आरोपों पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि इस मामले में छिपाने या डरने की कोई बात नहीं है। पिछले 20 दिनों से देश और दुनिया में उद्योगपति गौतम अडानी को लेकर खूब हो हल्ला मचा हुआ है। विपक्ष इस मुद्दे को बहाने सदन से लेकर सड़क तक सरकार को घेर रहा है।

अमेरिकी संस्थान हिंडनबर्ग की रिपोर्ट आने के बाद अडानी समूह को करोड़ों रुपयों का नुकसान हो चुका है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लोकसभा में अपने भाषण के दौरान इसको लेकर सरकार पर कई तीखे प्रहार किये थे। अब इसे लेकर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का बड़ा बयान आया है। गृहमंत्री अमित शाह ने कहा कि सत्य पर एक हजार साजिश कर लो कुछ नहीं होता है।

वो करोड़ों सूर्य की भांति तेजस्वी बनकर बाहर आता है। मोदी जी के खिलाफ 2002 से साजिश हो रही है पर हर बार वो और अधिक मजबूत होकर, सच्चे बनकर और जनता की ज्यादा लोकप्रियता हासिल कर उभरे हैं।

इस मुद्दे पर मेरा कुछ भी बोलना सही नहीं – गृहमंत्री अमित शाह

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने मामले का संज्ञान लिया है। कैबिनेट का सदस्य होने के नाते इस समय इस मुद्दे पर मेरा कुछ भी बोलना सही नहीं होगा, परन्तु इसमें भाजपा के लिए कुछ छुपाने के लिए नहीं है और न ही किसी बात से डरने की जरूरत है। लोकसभा में अडानी प्रकरण को लेकर राहुल गांधी के भाषण पर अमित शाह ने कहा कि राहुल गांधी के भाषण को लिखने वाली टीम को सोचना चाहिए।

क्रोनी कैपिटलिज्म के आरोपों पर भी बोले अमित शाह

गृहमंत्री अमित शाह ने राहुल गांधी के भाजपा पर लगाए ‘क्रोनी कैपिटलिज्म’ के आरोपों पर भी प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, “कोई सवाल ही नहीं है। कोई भी आज तक भाजपा के खिलाफ इस तरह के आरोप नहीं लगा सका है। कांग्रेस काल में चाहे सीएजी हो या सीबीआई, उन्होंने भ्रष्टाचार का संज्ञान लेते हुए मामले दर्ज किए थे। उस दौरान 12 लाख करोड़ रुपये के घोटाले हुए थे।

हिंडनबर्ग की रिसर्च रिपोर्ट ने दिया राजनीतिक विवाद को जन्म

अडानी ग्रुप पर हिंडनबर्ग की रिसर्च रिपोर्ट ने एक बड़े राजनीतिक विवाद को जन्म दिया है। जिसके बाद कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों ने भाजपा के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार के खिलाफ पक्षपात और क्रोनी पूंजीवाद के आरोप लगाए। इस मुद्दे पर संसद के बजट सत्र में जमकर हंगामा हुआ। विपक्ष ने इस पूरे मामले में संयुक्त संसदीय समिति की जांच की मांग की। जबकि भाजपा ने इस मामले में विपक्ष के सभी हमलों पर जमकर पलटवार किया। अडानी विवाद सहित कई मुद्दों पर विपक्षी नेताओं ने संसद की कार्यवाही में बार-बार बाधा डाली।

बोले अमित शाह सबूत हों तो कोर्ट जाएं

कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के बीजेपी के संस्थानों पर कब्जा करने के आरोपों के बारे में पूछे जाने पर शाह ने कहा कि उन्हें इस मुद्दे पर ये देखते हुए अदालत जाना चाहिए कि अदालतें भाजपा के प्रभाव में नहीं हैं। अमित शाह ने कहा कि ‘कोर्ट हमारे कब्ज़े में नहीं है। वे अदालत क्यों नहीं जाते ? यहां तक कि जब पेगासस का मुद्दा उठा था। तब भी मैंने कहा था कि सबूतों के साथ कोर्ट जाइए…वे सिर्फ शोर मचाना जानते हैं। जिन लोगों ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, कोर्ट ने पेगासस का संज्ञान लिया और फैसला भी सुनाया, साथ ही साथ जांच भी की गई थी।

नक्सलवाद लगभग समाप्त हो चुका है – गृहमंत्री अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि बिहार और झारखंड में नक्सवादी उग्रवाद लगभग समाप्त हो चुका है। मुझे विश्वास है कि छत्तीसगढ़ में भी कुछ ही समय में शांति बहाल करने में हम सफल होंगे। जम्मू-कश्मीर में भी आतंकवाद से संबंधित सभी प्रकार के आंकड़े सबसे अच्छी स्थिति में हैं।

read more : अफसरों के सामने जिंदा जली मां-बेटी, उपजिलाधिकारी समेत 11 लोग नामजद

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

Comments are closed.

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments