सिलेंडर ब्लास्ट के पांच और घायल मरे, दुआ-बस यहीं थम जाए मौत का सिलसिला

सिलेंडर ब्लास्ट के पांच और घायल मरे, दुआ-बस यहीं थम जाए मौत का सिलसिला
सिलेंडर ब्लास्ट के पांच और घायल मरे, दुआ-बस यहीं थम जाए मौत का सिलसिला

जोधपुर सिलेंडर ब्लास्ट में मरने वालों का आंकड़ा दिन बा दिन बढ़ता ही जा रहा है। गुरुवार को चार और मरीजों ने दम तोड़ दिया। वहीं आज सुबह एक मरीज की मौत हो गई। जिसके बाद इस भयावह ब्लास्ट में कुल 32 लोगों की जान चली गई। अब भूंगरा गांव के ग्रामीणों की एक ही प्रार्थना है कि मौत का तांडव यहीं पर थम जाए।

बता दें कि आठ दिसंबर की रात को भूंगरा गांव में शादी थी। बरात निकलने ही वाली थी कि सिलेंडर ब्लास्ट हो गया। इस सिलेंडर विस्फोट में 60 से अधिक लोग झुलस गए थे। उसके बाद मौत का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। दूल्हे के पिता, मां और भतीजे सहित कई लोगों को जान चली गई। इस हादसे में सबसे अधिक बच्चों और महिलाओं की जान गई हैं। वहीं गुरुवार को 40 साल की अनंची कंवर, 57 साल की सुगन कंवर, 29 साल की रसाल कंवर, धांपू और सुगन की मौत हो गई।

भूंगरा गांव में मातम पसर गया है। हर कोई यही कह रहा है कि उन्होंने आज तक ऐसा भयानक हादसा नहीं देखा। पिछले पांच दिनों से गांव में रोज लाशें आ रही हैं। दूल्हे के परिवार पर तो दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। दूल्हा सुरेंद्र भी हादसे में घायल है। वहीं उसका एक भाई अंत्येष्टि करने के लिए गांव में ही रुका हुआ है। वह घायलों को देखने अस्पताल तक नहीं जा पा रहा।

अस्पताल के बाहर परिजनों का प्रदर्शन

मिली जानकारी के अनुसार जोधपुर ब्लास्ट में गुरुवार को चार मौतें हुईं। जिसके बाद मृतकों के परिजनों ने शव लेने से इंकार कर दिया। वे अधिक मुआवजा राशि और सरकारी नौकरी की मांग को लेकर एमजी अस्पताल के बाहर प्रदर्शन करने लगे। परिजनों के साथ शेरगढ़ से कांग्रेस विधायक मीना कंवर और भोपालगढ़ से आरएलपी विधायक पुखराज गर्ग भी इस दौरान मौजूद रहे। इसके बाद नेता उप प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ भी धरने पर बैठ गए। उन्होंने सरकार के मुआवजे को नाकाफी बताया और 20 करोड़ राशि देने की मांग की।

परिजनों ने की 50 लाख रुपये की मुआवजे की मांग

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने हादसे में मरने वालों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये, घायलों को एक-एक लाख रुपये और चिरंजीवी योजना के तहत पांच लाख रुपये की घोषणा की है। अब प्रदर्शनकारी घायलों के लिए 25 लाख रुपये और मृतकों के परिजनों के लिए 50 लाख रुपये की मांग कर रहे हैं।

read more : तवांग की घटना पर सेना का पहला रिएक्शन , जाने कि पूर्वी कमान के प्रमुख ने क्या कहा