आसमान में दिखी लाल रंग की कड़कती बिजली, जानिए ये क्या बला है?

आसमान में दिखी लाल रंग की कड़कती बिजली,
आसमान में दिखी लाल रंग की कड़कती बिजली,

थंडरस्टॉर्म आता है तो बिजलियां कड़कती हैं | बारिश में भी अक्सर बिजली कड़कते देखी जाती हैं | आपने इन्हें सफेद या पीला या फिर कभी-कभी हल्के नीले रंग में देखा होगा | लेकिन कभी लाल रंग की कड़कती बिजली देखी है क्या? हाल ही में आसमान में लाल रंग की बिजली कड़कते वैज्ञानिकों ने देखा | ये बिजली वायुमंडल के ऊपर कड़क रही थी |

लाल रंग की कड़कती बिजली को स्प्राइट कहा जाता है | यह बेहद संवेदनशील और तीव्र थंडरस्टॉर्म की वजह से होता है|जहां सामान्य आकाशीय बिजली बादलों से धरती की तरफ गिरती है | स्प्राइट अंतरिक्ष की ओर भागते हैं | ये वायुमंडल के ऊपरी हिस्से तक चले जाते हैं | इनकी ताकत और तीव्रता बहुत ज्यादा होती है लेकिन ये बेहद दुर्लभ होते हैं | कड़कती बिजली यानी स्प्राइट कुछ मिलिसेकेंड्स के लिए ही दिखते हैं इसलिए इन्हें देखना और इनकी स्टडी करना बेहद मुश्किल होता है |

क्या होती है लाइटनिंग स्प्राइट्स?

इसके व्यवहार की वजह से इसका नाम स्प्राइट रखा गया है | यह स्ट्रैटोस्फेयर से निकलने वाले ऊर्जा कण हैं जो तीव्र थंडरस्टॉर्म की वजह से पैदा होने वाले विद्युत प्रवाह से बनते हैं | यहां पर अधिक प्रवाह जब बादलों के ऊपर आयनोस्फेयर में जाता है , तब ऐसी रोशनी देखने को मिलती है यानी जमीन से करीब 80 किलोमीटर ऊपर | आमतौर पर ये जेलीफिश या गाजर के आकार में दिखाई देती हैं इनकी औसत लंबाई-चौड़ाई 48 किलोमीटर तक रहती है कम या ज्यादा वो तीव्रता पर निर्भर करता है |

धरती से इन्हें देखना आसान नहीं होता | ये आपको ऊंचाई पर उड़ रहे प्लेन , अंतरराष्ट्रीय स्पेस स्टेशन से स्पष्ट दिख सकते हैं | आमतौर पर स्पेस स्टेशन पर रह रहे अंतरिक्षयात्रियों को ये नजारा अक्सर दिख जाता है | स्प्राइट्स सिर्फ थंडरस्टॉर्म से ही नहीं पैदा होते | ये ट्रांजिएंट ल्यूमिनस इवेंट्स की वजह से भी बनते हैं | जिन्हें ब्लू जेट्स कहते हैं ये अंतरिक्ष से नीचे की तरफ आती नीले रंग की रोशनी होती है , जिसके ऊपर तश्तरी जैसी आकृति बनती है |

Read more:बोरे में बंद मिला नाबालिग शव, पुलिस ने दुष्कर्म की आशंका जताई