मेनका गांधी ने फोन पर SO को लगाई फटकार

मेनका गांधी

सुल्तानपुर :सुल्तानपुर में जयसिंहपुर पुलिस द्वारा बीते दिनों NBW में निर्दोष को उठाकर हवालात में डालने का मामला सांसद मेनका गांधी की अदालत में पहुंचा तो उनका पारा गर्म हो गया। उन्होंने पुलिस की इस कारगुजारी पर थानाध्यक्ष को फोन लगाकर जमकर फटकार लगाई। सांसद ने कहा, यह क्या तरीका है। पहले आपको खुद जांच करनी थी।

सांसद ने SO से कहा, हरिकेश को उठाकर ले गए। उसको पीटा-कूटा तगड़े पन से। उसके बाद पता चला कि गलत लड़के को उठा लिया है। क्या तरीका है यह। पहले आप खुद पता करते। दरअसल, यह मामला जयसिंहपुर कोतवाली क्षेत्र के चोरमा गांव से जुड़ा है। गांव निवासिनी भानमती ने चौपाल में सांसद को शिकायती पत्र देते हुए पुलिस पर बेटे की पिटाई व पैसा छीनने का आरोप लगाया। जिस पर सांसद ने जयसिंहपुर कोतवाल से फोन पर वार्ता की। कोतवाल ने सांसद को अवगत कराया कि सिपाही को डायल 112 पर स्थानांतरित कर दिया गया है। सांसद ने कोतवाल को महिला के पैसे भी वापस दिलाने के लिए कहा है।

बताते चलें कि चोरमा गांव निवासी हरकेश पुत्र रामसुमेर निषाद का एसडीएम न्यायालय से गैर जमानती वारंट जारी किया गया था। वारंट के तामीले के तहत जयसिंहपुर कोतवाली पुलिस ने उसके स्थान पर इसी गांव के हरकेश पुत्र राम अजोर कोरी को गिरफ्तार कर उसे हवालात में डाल दिया। 5 अप्रैल को उसे पुलिस अभिरक्षा में एसडीएम कोर्ट में पेश किया था। पुलिसिया लापरवाही तो उस समय उजागर हुई, जब एसडीएम के न्यायालय पर पुलिस अभिरक्षा में लाए गए हरकेश पुत्र राम अजोर को न्यायालय में जमानत पत्र दाखिल करने के लिए पेश किया गया।

Read More :  पाला बदलने के लिए तैयार शिवपाल सिंह यादव!

तो अहलमद को वारंटी के स्थान पर दूसरे को पेश किए जाने का शक हुआ। इसी बीच गिरफ्तार किए गए व्यक्ति हरकेश कोरी की मां भानमती ने साक्ष्य के रूप में अपने बेटे का आधार कार्ड अहलमद के सामने प्रस्तुत करते हुए बेटे का नाम हरकेश पुत्र राम अजोर कोरी बताया। जबकि वारंट हरकेश पुत्र राम सुमेर निषाद के विरुद्ध जारी किया गया था। अंत में एसडीएम ने उसे रिहा कर दिया था।