Wednesday, June 19, 2024
Homeदेशउमा भारती का ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर विवादित बयान

उमा भारती का ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर विवादित बयान

उमा भारती के बयान पर ओवैसी का पलटवार

उमा भारती का ज्ञानवापी मस्जिद को लेकर विवादित बयान

ज्ञानवापी मस्जिद विवाद जारी है और सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है | पहले यह मामला वाराणसी कोर्ट पंहुचा | कोर्ट के आदेशानुसार मस्जिद का सर्वे हुआ | सर्वे में मस्जिद के वज़ूखाने में शिवलिंग मिलने का दावा किया गया | मस्जिद पक्ष का कहना है कि, जिसे हिन्दू पक्ष शिवलिंग बता रहा है, दरअसल वो एक फव्वारा है। हालांकि, कोर्ट ने वज़ूखाने को सील करने का आदेश दे दिया है | लेकिन मस्जिद में नमाज़ अदा करने पर लगी रोक हटा दी है |

ज्ञानवापी मस्जिद पर बीजेपी नेत्री की राय 

मामले को लेकर बीजेपी किसी भी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दे रही है | वहीं बीजेपी नेत्री उमा भारती ने ज्ञानवापी मुद्दे पर अपनी राय रखी। उमा भारती ने इंटरव्यू के दौरान कहा, “अयोध्या में तो खुदाई करनी पड़ी तब जाकर प्रमाण मिले। लेकिन काशी-मथुरा में तो खुदाई की जरूरत ही नहीं प्रमाण सामने है, साक्षात है। मैं हमेशा नंदी के गले में लटकती हूं और बहुत दुखी होती हूं। नंदी को तो अहिल्या बाई होलकर ने भी नहीं हटाया क्योंकि वो इसी बात के लिए छोड़ गई कि कभी नंदी ही रास्ता दिखायेगा। वहां शिवलिंग न भी मिले तो भी ये सबको पता है कि वहां मंदिर था। मैं अयोध्या, मथुरा और काशी में भव्य मंदिर देखना चाहती हूं।”

Read more : बाज़ार खाला थाने में हुई व्यापारियों और पुलिस की बैठक

उमा भारती ने विवादित बयान दिया | उन्होंने कहा , “मस्जिद को देखने पर आक्रान्ताओं की स्मृति आती है, चुभन होती है मन में। जो भी काशी जायेगा, उसको ज्ञानवापी की मस्जिद दिखती, तो दिल को तकलीफ होती है।”

असदुद्दीन ओवैसी का पलटवार

वहीं ज्ञानवापी मस्जिद मामले में ओवैसी कोर्ट के फैसले के खिलाफ है | उमा भारती के बयान पर ओवैसी ने पलटवार किया | उन्होंने कहा, “जब लोकसभा में 1991 एक्ट पर बहस चल रही थी , तब उमा भारती ने कहा था , ” ज्ञानवापी का क्या होगा? “| बीजेपी वो मोशन हार गई। ज्ञानवापी की मस्जिद को 1991 के एक्ट में प्रोटेक्ट किया गया है। ये संसद का मानना है। 1991 के एक्ट को सुप्रीम कोर्ट ने माना है | कोर्ट ने कहा है कि, ये भारत के संविधान का हिस्सा है।

Read more :अखिलेश से पहले शिवपाल यादव ने दिखाया ‘आजम प्रेम’

RELATED ARTICLES
- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments