कश्मीरी विद्वानों की हत्या का बदला, मुठभेड़ में घाटी में 4 मारे गए आतंकवादि

Encounter

डिजिटल डेस्क: सेना ने कश्मीरी पंडितों की हत्या का बदला लिया। निकेश लगातार मुठभेड़ों में जवानों के हाथों चार कुख्यात आतंकियों में से एक है। मारे गए आतंकवादियों में लश्कर-ए-तैयबा की शाखा द रेसिस्टेंस फ्रंट (TRF) का एक शीर्ष कमांडर भी शामिल था।

 कश्मीर पुलिस का कहना है कि गुरुवार को श्रीनगर के रामबाग में सुरक्षा बलों के साथ झड़प में तीन आतंकवादी मारे गए। तीन आतंकियों में से एक द रेसिस्टेंस फ्रंट (TRF) का टॉप कमांडर है। पुलिस का यह भी दावा है कि एक अन्य हिजबुल मुजाहिदीन का सदस्य है। पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि क्या वह किसी अन्य आतंकवादी समूह का सदस्य था। मारे गए आतंकियों में से एक की पहचान कर ली गई है।

 मेहरान श्रीनगर मुठभेड़ में मारे गए तीन आतंकवादियों में से एक है, कश्मीर पुलिस के आईजी विजय कुमार ने एएनआई को बताया। इस बीच सेना ने भारत में घुसपैठ की कोशिश करने के आरोप में बीती रात एक पाकिस्तानी जिहादी को मार गिराया।

 कोलकाता और मिजोरम में भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 6.1 रही तीव्रता

संयोग से, कश्मीर ने 1969 में एक काला अध्याय देखा। उसी साल 14 सितंबर को कश्मीर में एक हिंदू ब्राह्मण की हत्या कर दी गई थी। आतंकी संगठन जेकेएलएफ का पहला निशाना पंडित टीकालाल टपलू थे। उनकी हत्या से कश्मीर में हिंदुओं में दहशत फैल गई और पूरे देश में फैल गई। फिर ‘स्वर्ग’ में अल्पसंख्यकों का नारकीय नरसंहार और कश्मीरी विद्वानों का रातों-रात पलायन सब इतिहास है। करीब तीन दशक बाद घाटी में वे भयानक दिन लौट रहे हैं। आतंकवादी फिर से कश्मीरी विद्वानों की हत्या कर रहे हैं। इसके चलते कई लोग अपने घर छोड़कर भाग गए हैं। लेकिन इस बार सेना उस हत्याकांड के जवाब में जिहादियों को ढेर कर रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here