जल्द ही कोलकाता में बनेगा एक और एयरपोर्ट, अगले शीर्ष पर पहुंचने की क्षमता

Kolkata

मुंबई: नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सभी मेट्रो शहरों में नए हवाई अड्डों की जरूरत पर जोर देते हुए बुधवार को कहा कि सरकार कोलकाता में दूसरे हवाई अड्डे के लिए जगह तलाश रही है। सिंधिया ने इंडियन चेम्बर ऑफ कॉमर्स के एक वार्षिक सत्र को संबोधित करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से आगे आने और देश में नागरिक उड्डयन क्षेत्र में मौजूद विशाल अवसरों में हिस्सा लेने का भी आग्रह किया। एजीएम में उन्होंने कहा कि देश के महानगरों के हवाईअड्डों पर यात्रियों का दबाव बहुत अधिक है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में 7.5 करोड़ यात्री तो मुंबई में करीब 5 करोड़, बेंगलुरु में 4 करोड़ और हैदराबाद में 2.5 करोड़ यात्रियों का दबाव होता है। उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि देश के सभी महानगरों में नये हवाईअड्डे की जरुरत है।’ केंद्रीय मंत्री ने कहा कि दिल्ली और मुंबई में नये हवाईअड्डे के निर्माण की प्रक्रिया पहले से ही जारी है, लेकिन कोलकाता सहित अन्य नगरों में भी हवाईअड्डे बनाने की जरूरत है। सिंधिया ने आगे कहा, ‘मैं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री से बात करने का प्रयास कर रहा हूं, साथ ही उन मुद्दों पर भी विचार कर रहा हूं जो पश्चिम बंगाल से संबंधित हैं, क्योंकि यह देश के पूर्वोत्तर और दक्षिण-पूर्व हिस्सों में सामरिक गतिविधियों की दृष्टि से प्रमुख कारक है।’

 उन्होंने पश्चिम बंगाल में हवाईअड्डों की संख्या और हवाई संपर्क दोनों को बढ़ाने की आवश्यकता बताते हुए कहा, ‘मैं कोलकाता में एक नये हवाईअड्डे के लिए भी जगह की प्रतीक्षा कर रहा हूं। इसलिए मैं पश्चिम बंगाल सरकार से अनुरोध करता हूं कि वह आगे आए और भारत में विशाल अवसर का लाभ उठाये।’ केंद्रीय मंत्री ने यह भी कहा कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय उन देशों के लिए अंतरराष्ट्रीय उड़ानें बढ़ाने पर विचार कर रहा है जिनके साथ उसने ‘एयर बबल’ व्यवस्था की है।

 मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह पर लगा अब तक का सबसे बड़ा आरोप

भारत के पास अगले एक दशक में हवाई यात्रा क्षेत्र में शीर्ष पर पहुंचने की क्षमता

नागर विमानन मंत्री ने कहा कि भारत में लगभग एक दशक में हवाई यात्रा में शीर्ष पर पहुंचने की क्षमता है। उन्होंने कहा कि सरकार क्षेत्रीय और लंबी दूरी के अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर कनेक्टिविटी में सुधार के लिए प्रतिबद्ध है। सिंधिया ने बताया कि सरकार ने 2025 तक हवाईअड्डों की संख्या मौजूदा के 136 से बढ़ाकर 220 तक पहुंचाने का लक्ष्य रखा है। सिंधिया ने कहा, ‘70 वर्ष में 74 हवाईअड्डे बने थे। हमने पिछले सात साल में 62 और हवाईअड्डे बनाए हैं। अब हमारे पास 136 हवाईअड्डे हैं। लेकिन यहीं पर हम रुकने वाले नहीं हैं। हमारा लक्ष्य 2025 तक कुल 220 हवाईअड्डों तक पहुंचने का है और इसमें हेलीपोर्ट और वाटर पोर्ट भी शामिल हैं।’

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here